जेएनएन,शाहजहांपुर:मृदाजांचकिसानोंकेलिएवरदानसाबितहोरहीहै।मृदास्वास्थ्यसुधारकार्यक्रमशुरूहोनेकेबादकिसानोंमेंमृदास्वास्थ्यकेप्रतिजागरूकताआई।मृदाजांचकेबादविशेषज्ञोंकीसलाहपरखादकाप्रयोगकरनेसेलागतमेंकमीआईऔरपैदावारमेंवृद्धिहुई।पूरेजनपदमें25फीसदकेकरीबडीएपीखादकाखपतकमहोगई।जबकियूरियामेंआठसेदसफीसदकीगिरावटआईहै।तमामकिसानोंनेडीएपीका60फीसदयूरियाका30फीसदतकप्रयोगकमकरलिया।इसकेबावजूदपैदावारमेंइजाफाहुआ।वर्मीकंपोस्टवफसलअपिशष्टप्रबंधनसेभीसुधरीमृदाकीसेहत

जैविकखेतीकेप्रतिजागरूककरनेकेलिएसरकारनेप्रत्येकराजस्वगांववर्मीकंपोस्टपिटकामॉडलतैयारकराया।करीब50फीसदगांवोंमेंप्रयोगसफलरहा।जिनकिसानोंनेवर्मीकोप्रयोगकिया,उनकीफसललागतकाफीकमहोगया।मृदास्वास्थ्यमेंसुधारआया।गतवर्षसेफसलअपशिष्टप्रबंधनकाअभियानचला।इसकेभीसुखदपरिणामआएहै।जांचमेंमृदामेंकार्बनिकपदार्थीकीमात्राबढ़ीपाईगईहै।सूक्ष्मपोषकतत्वोंकाप्रयोगबढ़ा

मृदानमूनाजांचकेबादलोगोंकोसूक्ष्मपोषकतत्वोंकेमहत्वकेबारेमेंपताचला।दरअसलनाइट्रोजन,फास्फोरसवपोटाशकेअलावामृदाकेलिएजीवांशकार्बन,लोहा,तांबा,जिक,मैंगनीज,सल्फरआदिकीभीजरूरतहोतीहै।

मृदास्वास्थ्यकार्डमेंविशेषज्ञोंकीसलाहपरकिसानोंनेसामान्यपोषकतत्वोंकाप्रयोगकमकरकेसूक्ष्मपोषकतत्वोंकाप्रयोगबढ़ाया।इससेफसलउपजदरमेंवृद्धिदर्जहुईहै।सूक्ष्मपोषकतत्वोंकेप्रतिकिसानजागरूकहुएहैं।वेजैविकखेतीकीओरलौटरहेहैं।वर्मीकंपोस्टपिटअभियानकाफीकारगरसाबितहुआ।यदिकिसानफसलचक्रअपनानेकेसाथफसलअपशिष्टकोखेतमेंसड़ानाशुरूकरदेंतोमृदामेंकार्बनिकपदार्थोंकीमात्राबढ़जाएगी।खादकाप्रयोगकमहोगाऔरपैदावारबढ़ेगी।

डा.सतीशचंद्रपाठक,जिलाकृषिअधिकारीमृदाजांचकेबाददोएकड़जमीनमें12बोरीयूरियावदोबोरीडीएपीकीबचतहुई।अबखेतमेंकेंचुआखादभीबनारहाहूं।इससेलागतकमहोगईऔरपैदावारमेंइजाफाहुआहै।

मनोजवर्मा,प्रगतिशीलकिसान

मृदाजांचकेबादफसलवारसूक्ष्मपोषकतत्वववृद्धिदरफीसदमें

जिकसल्फेट:धान-40

गंधकसल्फर:तिलहन-45

फेरससल्फेटलोहा:दलहन-40

जिप्सम:ऊसरयुक्तजमीन-20

सिगलसुपरफास्फेट:गन्ना-60खादमेंकमी

डीएपी:25से60फीसद

यूरिया:8से30फीसद