जोशीमठ,चमोली[जेएनएन]:श्रीबदरीनाथधामकीयात्राचरमपरहै।अबतकसाढ़ेचारलाखसेअधिकयात्रीबदरीनाथधामपहुंचचुकेहैं।बावजूदइसकेयात्राकेमुख्यपड़ावजोशीमठमेंवीरानीपसरीहुईहै।असलमेंजरूरीसुविधाओंकीकमीकेकारणयात्रीयहांरुकनाहीनहींचाहते।इससेयहांकाहोटलव्यवसायभीचरमरागयाहै।

जोशीमठ(ज्योतिर्मठ)भगवानबदरीनारायणकाशीतकालीनपड़ावहोनेकेसाथहीप्रमुखधार्मिकनगरीभीहै।शास्त्रोंमेंकहागयाहैकिजोशीमठस्थितप्राचीननृसिंहमंदिरमेंपूजा-अर्चनाकेबादहीबदरीनाथधामकीयात्राकरनीचाहिए।यहांपरशंकराचार्यकोठा,रावलकोठासमेत कईपौराणिकस्थलहैं।

बावजूदइसकेबदरीनाथजानेवालेयात्रीजोशीमठमेंरुकनापसंदनहींकररहे।जबकि,इसबारबदरीनारायणकेदर्शनोंकोयात्रियोंकारेलाउमड़रहाहै।दरअसल,नगरमेंपार्किंग,पेयजल,शौचालयसमेतअन्यसुविधाओंकेअभावकेचलतेयात्रीयहांरुकनेकेबजायअगलेपड़ावस्थलोंयाफिरसीधेबदरीनाथधामकेलिएरवानाहोजारहेहैं।

जोशीमठमेंदोहजारसेअधिकहोटलव्यवसायियोंकारोजगारयात्रापरटिकाहुआहै।जिन्हेंयात्रियोंकेयहांनठहरनेसेमायूसहोनापड़रहाहै।व्यापारमंडलजोशीमठकेअध्यक्षनैनङ्क्षसहभंडारीकहतेहैंकियात्राचरमपरहोनेकेबावजूदजोशीमठकेव्यवसायियोंकोरोजी-रोटीकेसंकटसेजूझनापड़रहाहै।इसओरप्रशासनकोध्यानदेनाचाहिए।होटलव्यवसायीप्रकाशशाहकहतेहैैंकियात्रीजोशीमठमेंरुकनाचाहतेहैं,मगरदिक्कतेंउन्हेंसीधेआगेबढ़नेकोविवशकररहीहैं।

पेयजलकीहैसमस्या

जोशीमठमेंलंबेसमयसेपेयजलकीसमस्याबनीहुईहै।यहांपरजलसंस्थानकेचारसार्वजनिकस्टैंडपोस्टहैं।यात्राशुरूहोनेसेपहलेइनकारंग-रोगनभीकियागया।मगर,आजतकइनपरबूंदभरभीपानीनहींआया।ऐसेमेंयात्रीबाजारकापानीखरीदकरप्यासबुझारहेहैं।

शौचालयकाभीअभाव

नगरमेंशौचकीसुविधातकनहींहै।नगरपालिकाकीओरसेङ्क्षसहधारवछावनीबाजारमेंसार्वजनिकशौचालयबनाएगएहैं।मगर,नगरसेदूरहोनेकेकारणयात्रियोंकेकामनहींआरहे।

पार्किंगसुविधाभीनहीं

नगरमेंबदरीनाथस्टैंडपर25वाहनोंकीपार्किंगहै,जबकितहसीलकीपार्किंगमें50वाहनरुकसकतेहैं।गांधीमैदानमें100वाहनोंकेखड़ाहोनेकीक्षमताहै।देखाजाएतोयहजगहस्थानीयवाहनोंकेलिएभीपूरीनहींहै।जबकि,इनदिनोंरोजानायहांसैकड़ोंवाहनआरहेहैं।

उपजिलाधिकारीयोगेंद्रसिंहनेबतायाकिजोशीमठमेंपार्किंगकीबड़ीसमस्याहै।जिसकारणव्यापारियोंकोयात्राकालाभनहींमिलपारहा।हालांकि,यात्रीसुविधाएंजुटानेकेलिएप्रशासनकीओरसेहरसंभवजतनकिएजारहेहैं।

यहभीपढ़ें: केदारनाथयात्रामेंध्वस्तहोरहेसारेरिकॉर्ड,एकमाहमेंपहुंचेइतनेयात्री

यहभीपढ़ें:आस्थासेगुलजारहोरहाहैआदिबदरीधाम,जानिएमंदिरकीविशेषता

यहभीपढ़ें:इसपर्वतपरस्थापितहैयहमंदिर,नहींजुड़पायापर्यटनसर्किटसे

By Duncan